8वीं फेल होने के बाद शौक को ही बनाया कॅरियर, आज CBI से लेकर अमूल तक चलती है इनके इशारे पर -dkanews.com - Dkanews: Latest News, India News, Breaking News, Business, Bollywood, Cricket, Videos

Breaking

Saturday, 28 October 2017

8वीं फेल होने के बाद शौक को ही बनाया कॅरियर, आज CBI से लेकर अमूल तक चलती है इनके इशारे पर -dkanews.com

कम्प्यूटर में गहरी दिलचस्पी। इस वजह से पढ़ाई के दौरान एग्जाम में फेल भी हो गए। घर वालों ने नाराजगी जताई। लेकिन इस लड़के की जिद अलग थी। कुछ नया, पर अपने मन की करना। उन्होंने कर दिखाया। तभी तो महज 23 साल की उम्र में त्रिशनित अरोड़ा नाम का ये लड़का अब करोड़ों का कारोबार करता है। ऐसा बिजनेस जिसे आमतौर पर लोग नहीं जानते हैं। हाल ही में दिए एक इंटरव्यू के बाद त्रिशनित चर्चा में हैं।
आपको बता दें, त्रिशनित एक एथिकल हैकर हैं। एथिकल हैकिंग में नेटवर्क या सिस्टम इन्फ्रास्ट्रक्चर की सिक्युरिटी इवैल्युएट की जाती है। सर्टिफाइड हैकर्स इसकी निगरानी करते हैं, ताकि कोई नेटवर्क या सिस्टम इन्फ्रास्ट्रक्चर की सिक्युरिटी तोड़कर कॉन्फिडेन्शियल चीजें न तो उड़ा सके और न ही वायरस या दूसरे मीडियम्स के जरिए कोई नुकसान पहुंचा सके।
लुधियाना के एक मिडिल क्लास में पैदा हुए त्रिशनित अरोड़ा की पढ़ाई में कम और कंप्यूटर में ज्यादा दिलचस्पी थी। वे पूरे दिन कंप्यूटर में हैकिंग का काम सीखते थे जिस वजह से पढ़ाई नहीं कर पाते थे, यही कारण वे 8वीं कक्षा में फेल हो गए थे। त्रिशनित बताते हैं कि कंप्यूटिंग पढ़ने में मैं इतना मगन हो गया कि बाकि विषयों की पढ़ाई में ध्यान नहीं दे पाया। यही वजह है कि दो पेपर नहीं दिए और फेल हो गया। रिजल्ट आने के बाद माता-पिता से डांट से सुना लेकिन, कंप्यूटर में अपनी रूचि बनाये रखा। साथ ही रेगुलर पढ़ाई छोड़कर 12वीं तक कॉरेस्पोंडेंस से पढ़ाई करने का फैसला किया।
त्रिशनित ने कंप्यूटर में ही करियर बनाने का निश्चय किया और हैकिंग के बारे में लगातार नई जानकारियां भी इकट्‌ठा करते रहे। शुरुआत में उन्हें कोई गंभीरता से नहीं ले रहा था लेकिन, उन्होंने हैकिंग में अपनी पकड़ को मजबूत बनाते हुए साबित कर दिया कि कैसे विभिन्न कंपनियों का डाटा चुराया जा रहा है और वर्तमान में हैकिंग के क्या तरीके इस्तेमाल किए जा रहे हैं।
धीरे-धीरे उनके काम को मान्यता मिलने लगी और हैकिंग की दुनिया में इनका नाम होना शुरू हो गया। आपको बता दें, त्रिशनित ने महज 21 साल की उम्र में साइबर सिक्युरिटी फर्म की आधारशिला रखी थी। धीरे-धीरे त्रिशनित अपने काम में प्रसिद्धि कमाते हुए अब रिलायंस, सीबीआई, पंजाब पुलिस, गुजरात पुलिस, अमूल और एवन साइकिल जैसी कंपनियाें को साइबर से जुड़ी सर्विसेज दे रहे हैं।
इतना ही नहीं ‘हैकिंग टॉक विद त्रिशनित अरोड़ा’ ‘दि हैकिंग एरा’ और ‘हैकिंग विद स्मार्टफोन्स’ जैसी किताबें लिख चुके हैं। आपको बता दें, त्रिशनित की कंपनी टीएसी आज दुनियाभर के 50 फॉर्च्यून और 500 से ज्यादा कंपनियों को अपना क्लाइंट बनाया है। इनका दुबई और यूके में भी ऑफिस है। कंपनी का सालाना टर्नओवर कई करोड़ रूपये में है।

No comments:

Post a Comment